रविवार, अगस्त 30, 2009

Thanks for all the love, respect and birthday wishes!

Gulzar saab has conveyed thanks to everyone for sending birthday wishes last week. In a specially recorded message like every year (though recording is not that great as the phone I used played foul) he has thanked every one for the love, respect and affection of his fans.. He has also recorded a special nazm (roman transliteration below)









पवन, बहुत बहुत शुक्रिया,
क्यूंकि तुम्हारी वजह से, हज़ारों चाहने वालों से राब्ता पैदा होता है, मेरा उनसे ताल्लुक रहता है
उनसे 'कॉंटेक्ट' (contact) होता रहता है.. और सिर्फ़ अपने मुल्क में ही नहीं, हिन्दुस्तान में ही नहीं, हिंदुस्तान के बाहर से भी जो ’मैसेज’ मिलते हैं, जगह जगह से संदेसे मिलते है मुझे मुबारक़बाद के.. यकीन मानो आई गेट ओवरव्हेल्मेड (I get overwhelmed)... छलकने लगता हूं अन्दर से.. और इतनी इज़्ज़त देते हैं, सम्मान देते हैं दोस्त, चाहने वाले!

और सबका शुक्रिया एक एक को अकेले अकेले कर दूं ये मुमकिन नहीं होता तो इसलिये तुम्हारे थ्रू (through) ये आवाज़ उन तक पहुंचाने की कोशिश करता हूं.. अब.. मशक़ूर बड़ा मामूली सा लफ़्ज़ है कि मैं बड़ा मशक़ूर हूं, बहुत थैन्क्फ़ुल (thankful) हूं, लेकिन उसके बगैर गुज़ारा भी नहीं.. लेकिन इससे मैं बहुत ज्यादा कुछ हूं.. अब शुकराने में कहिये या इस इज़्ज़त से, सम्मान से सर वाकई में झुक जाता है कि इतना प्यार भी मिल सकता है.. अब हरकतें मेरी क्या हैं वो आप लोग मुझसे बेहतर जानते हैं.. लेकिन लगा ज़रूर रहता हूं कुछ ना कुछ हरकतें ऐसी करने में.. और हर साल की तरह एक बार फिर आप तमाम तमाम तमाम चाहने वालों को मेरा बहुत बहुत शुक्रिया.. आपके ख़त मिलते हैं, और बड़े अच्छे, प्यारे प्यारे से ख़त मिलते हैं, बड़े पर्सनल से मिलते हैं

एक काम और किया करता हूं जन्म दिन पर कोशिश करता हूं, कोई न कोई एक नज़्म आप लोगों के लिए पेश कर सकूं.. अगर नीयत हो तो सुन लीजिये.. चलिये एक नज़्म..


"भंवर सी घूमती है ये ज़मीं, रोको
भंवर सी घूमती है ये ज़मीं, रोको
उतर के पूछ लूं आखिर मुझे जाना कहाँ तक है!
इसी स्टेशन पे ले आती है ये हर साल मुझको
और रोकती भी नहीं है
जहां जन्म की तारीख़ लिखी है

भंवर के दायरे गर फैल रहे हैं
तो फिर साहिल कहाँ हैं
सिमटता जा रहा है दायरा तो फिर
उम्र का मरकज़ कहाँ पर है

भंवर सी घूमती है ये ज़मीं, रोको
उतर के पूछ लूं आखिर मुझे जाना कहाँ तक है"

बहुत बहुत शुक्रिया!

you can listen the audio message at
http://www.gulzaronline.com/thanks09/gthanks09.htm

in Roman,


pavan, bahut bahut shukriyaa,
kyU.nki tumhaarI vajah se, hazaaro.n chaahane waalo.n se raabtaa paidaa hotaa hai, meraa unase taalluk rahataa hai
unase contact hotaa rahataa hai.. aur sirf apane mulk me.n hI nahI.n, hindustaan me.n hI nahI.n, hi.ndustaan ke baahar se bhI jo messages milate hai.n, jagah jagah se sa.ndese milate hai mujhe mubaarakbaad ke.. yakeen maano I get overwhelmed... Chalakane lagataa hU.n andar se.. aur itanI izzat dete hai.n, sammaan dete hai.n dost, chaahane waale!

aur sabakaa shukriyaa ek ek ko akele akele kar dU.n ye mumakin nahI.n hotaa to isaliye tumhaare through ye aavaaz un tak pahu.nchaane kI koshish karataa hU.n.. ab.. mashak.oor baD.aa maamUlI saa lafz hai ki mai.n baD.aa mashak.oor hU.n, bahut thankful hU.n, lekin usake bagair guzaaraa bhI nahI.n.. lekin isase mai.n bahut jyaadaa kuCh hU.n.. ab shukaraane me.n kahiye yaa is izzat se, sammaan se sar vaakaI me.n jhuk jaataa hai ki itanaa pyaar bhI mil sakataa hai.. ab harakate.n merI kyaa hai.n vo aap log mujhase behatar jaanate hai.n.. lekin lagaa zarUr rahataa hU.n kuCh naa kuCh harakate.n aisI karane me.n.. aur har saal kI tarah ek baar phir aap tamaam tamaam tamaam chaahane waalo.n ko meraa bahut bahut shukriyaa..
aapake kh.at milate hai.n, aur baD.e achChe, pyaare pyaare se kh.at milate hai.n, baD.e parsanal se milate hai.n

ek kaam aur kiyaa karataa hU.n janm din par koshish karataa hU.n, koI na koI ek nazm aap logo.n ke lie pesh kar sakU.n.. agar nIyat ho to sun lIjiye.. chaliye ek nazm..


"bha.nvar sI ghUmatI hai ye zamI.n, roko
bha.nvar sI ghUmatI hai ye zamI.n, roko
utar ke pUCh lU.n aakhir mujhe jaanaa kahaa~.n tak hai!
isI sTeshan pe le aatI hai ye har saal mujhako
aur rokatI bhI nahI.n hai
jahaa.n janm kI taarIkh. likhI hai

bha.nvar ke daayare gar phail rahe hai.n
to phir saahil kahaa~.n hai.n
simaTataa jaa rahaa hai daayaraa to phir
umra kaa marakaz kahaa~.n par hai

bha.nvar sI ghUmatI hai ye zamI.n, roko
utar ke pUCh lU.n aakhir mujhe jaanaa kahaa~.n tak hai"

bahut bahut shukriyaa!

3 टिप्‍पणियां:

विनय ‘नज़र’ ने कहा…

सुन्दर प्रस्तुति
--->
गुलाबी कोंपलें · चाँद, बादल और शाम

neelima sukhija arora ने कहा…

भंवर सी घूमती है ये ज़मीं, रोको
उतर के पूछ लूं आखिर मुझे जाना कहाँ तक है!
इसी स्टेशन पे ले आती है ये हर साल मुझको
और रोकती भी नहीं है
जहां जन्म की तारीख़ लिखी है

...गुलजार साब के जन्मदिन पर हम फैन्स को इससे बेहतर तोहफा क्या मिलेगा, एक नज्म

बिहार -भक्ति:Aravind Pandey ने कहा…

sundar