सोमवार, अप्रैल 18, 2011

A Song that rocked a Nation - Chhaiyyan Chhaiyyan... [The curious case of Briptu Norman Kamaru]

Two weeks ago, Briptu Norman Kamaru was an ordinary cop with a mobile police brigade in Gorantalo, a province in Sulawesi, Indonesia. It was a personal pleasure moment caught on the camera which turned Norman Kamaru into a style statement and a nation wide figure, courtesy the social media tools. In the space of just a few days, the funny little cop turned into a dancing super cop and the entire nation of Indonesia is swinging with him.

What made it possible was a famous Bollywood song penned by Gulzar saab, sung by Sukhwinder Singh & Sapna Awasthi, composed by AR Rahman, picturised on Shahrukh Khan & Malaika Arora and choreographed by Farah Khan.. Yes you guessed it right.. its ever popular "Chhaiyyan Chhaiyyan" from Dil Se.. What Norman Kamaru did is, lip synced and danced to the audio of Chhaiyyan Chhaiyyan and made a video for friends that was uploaded on Youtube. The funny video immediately caught attention of many.. Justin Bieber, Rebecca Black & now Norman Kamaru was already a YouTube star just in a couple of days (in Indonesia ofc)

The most significant aspect of the video was that it was captured when Norman Kamaru was on official duty and was in official police dress in presence of other staff at the police station.

Once the video became popular, the senior officials immediately took it seriously and threatened to suspend him with immediate affect. Also the Chief of mobile brigade tried to crack down on the video uploader.. The action of senior police officials created a nation wide wave in favor of Norman Kamaru with people all around nation (also politicians joined it) reacted strongly opposing any action and justified Kamaru's actions. The wave was so strong in favor so that the officials had to revoke the punishment. (Watch the original video)



[At the time of writing the video has already received close to two million hits, last night it was one million, cumulatively speaking the video hits are more than 3.5 million, that just in last 14 days]

By now Norman Kamaru was already a super star (just in the space of 4-5 days, a Facebook fan site was setup which has 2.5 lac fans).. and Chhaiyyan Chhaiyaan was on the lips of all walks of citizens. He has already been invited to many Talk Shows (one of the talk shows (Bukan Empat) which was ranked 64 in TV ratings of Indonesia, jumped to Ist place after they invited Kamaru on the show). His own unit honored him & he got to perform in front of them officially. There are talks for many TV Shows, cutting of an album and even a film!







There are many significant aspects of his interesting story.. showing human side of police, unearthing of a superstar from nowhere, the power of social media tools & ofc supremacy of public. And the after effects are many, in Indonesia, you can find almost everyone singing Chhaiyyan Chhaiyyan, people from all walks of life, singing, playing & dancing on this .. There is a sharp rise in interest for Bollywood all over the country in last one week. The song is rocking the nation and one can also attribute a little to the magic of the sound of two words "Chhaiyyan Chhaiyyan"


(This is a real story shared by Sunjoy Shekhar (who lives in Indonesia and known for translating Gulzar saab's songs in to a book titled 100 lyrics) and he specifically mentions that everyone around him in Indonesia is so mad about Chhaiyya Chhaiyya, from his maid to his driver to almost everyone he see on street. The song is driving the entire nation crazy even today! keep an eye of the Youtube hits!!!)




Google Trends showing the rise in popularity in just two weeks..

मंगलवार, सितंबर 28, 2010

Do Masoom Khuda : दो मासूम खुदा

शिमला के सफ़र का एक मंज़र :

सर्दी थी और कोहरा था
और सुबह की बस आधी आँख खुली थी,
आधी नींद में थी!

शिमला से जब नीचे आते
एक पहाड़ी के कोने में
बस्ते जितनी बस्ती थी इक
बटवे जितना मंदिर था
साथ लगी मस्जिद, वो भी लॉकिट जितनी

नींद भरी दो बाहों
जैसे मस्जिद के मीनार गले में मन्दिर के,
दो मासूम खुदा सोए थे!
एक बूढ़े झरने के नीचे!!


Shimla Ke Safar ka Ek Manzar:

sardI thI aur koharaa thaa
aur subah kI bas aadhI aa.nkh khulI thI,
aadhI neend me.n thI!

shimla se jab nIche aate
ek pahaaDI ke kone me.n
baste jitanI bastI thI ik
baTave jitanaa mandir tha
saath lagI masjid, vo bhI locket jitanI
neend bharI do baaho.n jaise masjid ke mInaar gale me.n mandir ke,
do maasoom khudaa soye the!
ek booDhe jharne ke neeche

[Published in 15-5-75, a new poetry collection on Vani Prakashan, Delhi]

बुधवार, सितंबर 08, 2010

शुक्रवार, अगस्त 20, 2010

Online Gulzar Quiz (Birthday Celebrations on 18.08.2010) : Answer and Results

Gulzarfans,

Have organised an online quiz on August 18, 2010 on Gulzar saab's 76th Birthday and had some real good participation. Everybody participated in the quiz had good fun and I hope they really enjoyed it. Posting the Quiz Questions and Answers as some of you who could not participate due to time difference.. The quiz was organized on @kweezzz channel on twitter.

Q1.When Gulzar saab was writing the script of one of the film, he named Hero on the name of the waiter serving him. The waiter was working in the hotel where Gulzar saab was writing the script. Name the Character, Hotel & Film

Additional Clues:
It was based on a Novel.. The novel was written by a prominent novelist of Hindi literature.. written in parallel to the script

A1. The Character name (waiter's actual name) is J.K., played by Sanjeev Kumar. The film is Aandhi and the real life Hotel is Hotel Akbar.

Additional Notes: Aandhi was based on the novel written by Kamaleshwar ji titled Kaali Andhi. The novel was written in parallel to the script of the film.

Q2.
Identify the film of this dialog.

"Yah to Bhootiya ghar lagta hai yaar.."
"Yaar, bhoot itne khoobsurat hote hain mujhe nahin maloom tha"


Additional Clues:
An unusual film for this kind of dialog based on work of another legend! The film featuring Sharmila Tagore.

A2. The film Khushboo... when Jitendra visits Sharmila Tagore's house for the first time!

Additional Notes:
Khushboo was based on Sharatchandra's classic "Pandit Moshay".


Q3. Apart from Achanak, which of the Gulzar film (feature film directed by him) was not having any of his lyrics?

A3. The film is Meera..Meera featured all songs as bhajans actually penned by Meera Baai, and did not feature any song penned by Gulzar saab.

Additional Notes : Some people mentioned Koshish, Sahira and Ek Akar.. Koshish had two songs penned by Gulzar saab.. while Sahira and Ek Akar were documentaries... These documentaries were not originally made by Gulzar saab but his dear friend S. Sukhdev, which Gulzar saab tookover to complete after Sukhdev's death.

Q4. Name the film/project where gulzar saab is credited for lyrics and Henry Mancini for background score.

Additional Clues:
Hint : Film directed by Phil Roman:)
Music by Vishal Bhardwaj
Hint : Film on the most popular legendary onscreen artists

A4. The answer is Billu aur Pillu... Dubbed version of Tom & Jerry : The Movie (1994)

Additional Notes:

The answer is here



Q5. Connect Poornima, Khamoshi, Kinara (common factor), all had lyrics by Gulzar saab. looking for a precise answer..

Additional Clues:
Bandini is odd one out in the groups of four (with three mentioned in Q5.. Poornima, Khamoshi, Kinara)

A5. All the films had atleast one gulzar penned song picturised on Dharmendra..

Q6. Any easy one.. which film is this dialog from

"Listen I am not a bloody politician. I face things straight in the face"


A6. Its from Aandhi, when Sanjeev Kumar confronts Suchitra Sen.

Q7. An interesting one as far as film credits are concerned..Take a look at the following image and identify the film (Gulzar saab credited for "Re Direction" of the film!




Additional Clues:
The film was produced by P.L. Anand.
Hint : Milo, Otis..

A7. The answer is Chatran.. The hindi version of The adventures of Milo and Otis.. Music by RD Burman..

Additional Notes:
Chatran... a beautiful film....in hindi must watch for Gulzar saab's commentary and Pancham's music.

Q8. Which of the mother and daughter actress pair is directed by Gulzar saab (in different films)

Additional Clues:
Hint : The two heroines are from Bengal.

A8. The correct answer is Suchitra Sen (in Aandhi) and Moon Moon Sen (Lekin)..

Q9. Which Legendary actor died before finishing the dubbing for Libaas and Johnny Lever dubbed for him?

A9. Johnny Lever dubbed for Utpal Dutt.


Q10. For which Gulzar directed film Amitabh Bachchan was signed as Hero and Lakshmikant Pyarelal as music directors.. but changed later..

A10. The correct answer is Meera... Amitabh Bachchan shot for a few reels for Vinod Khanna character. And Pt. Ravishankar got in after Laxmikant Pyarelal backed out.

Additional Notes:
an excellent account by Gulzar saab himself on the making of Meera on this blog
http://gulzars.blogspot.com/2007/09/gulzar-on-making-of-meera.html

Q11. Basu Bhattacharya started a film with #Gulzar saab in the lead & Sharmila in female lead.. but shelved after a few reels. Name the film.

Additional Clues:
The title of the shelved film was very Poetic! Gulzar saab has actually appeared in four films Jalianwala Bagh, Griha Pravesh, Wajood and Chachi 420.

A11. The title was "Asamaapt Kavita"

Q12. On which of the Gulzar short story, Nadira acted in the lead in TV Serial Kirdaar..

Additional Clues:
Gulzar saab's Short story has the same name of a famous Hollywood film of 1950.

A12. Sunset Boulevard
Additional Notes:
Superb performance by Nadira ji in one of her last appearances..

Q13. Name the film from which famous humorous dialog taken.

"Aaj hamare beech Pandit Ji nahi hain, Neta Ji nahi hain, Gandhi ji nahi hain aur meri bhi tabiyat kuchh theek nahin chal rahi"


A13. Mere Apne.. Way back in 1971.. Asit Sen speaks during a political speech!

Q14. Name the first time he wrote lyrics for a film directed by a music director. Name the film.

Additional Clues:
Hint : It was not Ishqiya.... The story line was very similar to Ishqiya though
Hint : featured one of the most legendary natural performers of old time (Naseer played the same in Ishqiya) & comedian as sidekick (Ashrad Warsi played it in Ishqiya)

A14. The answer is Pinjare Ke Panchhi (1966), directed by music director Salil Chowdhury.

Additional Notes:
Balraj Sahni and Mehmood played small time crooks in the lead.. running away from police, lands in a vilage at Meena Kumari's house (played a widow). Even Balraj Sahni and Mehmood played Muslim characters,pretend to be Mama-Bhanja (as in Ishqiya)
Salil Chowdhury directed his. The stroy was also written by him, while Shailendra penned the dialogs and songs, while Gulzar saab penned one song.


Thats it as far as Qs & As are concerned. Time to declare Winners.

The Winner:
@v9y - 52 points

The Runners up:
@dildhoondhtahai - 37 points

Next (up[to first ten)

3. @neetikakapur - 21 points
4. @AuteurPravesh - 18 points
5. @gauravsabnis - 12 points

6 to 8.
@ronyd, @kcpingle, @bhuvanmehta - 11 points each

9. @sandeepish - 10 points
10. @vicramb - 10 points

Congratulations to all the winners. They are requested to contact me at http://twitter.com/p1j for prizes. Thanks to entire team of http://twitter.com/kweezzz channel for hosting the quiz.

गुरुवार, अगस्त 19, 2010

माँ (mother)

गुलज़ार साब के जन्मदिन पर प्रस्तुत है उनकी एक अनूठी पर्सनल नज़्म जो उन्होनें अपनी माँ को समर्पित की है!

तुझे पहचानूंगा कैसे?
तुझे देखा ही नहीं

ढूँढा करता हूं तुम्हें
अपने चेहरे में ही कहीं

लोग कहते हैं
मेरी आँखें मेरी माँ सी हैं

यूं तो लबरेज़ हैं पानी से
मगर प्यासी हैं

कान में छेद है
पैदायशी आया होगा
तूने मन्नत के लिये
कान छिदाया होगा

सामने दाँतों का वक़्फा है
तेरे भी होगा
एक चक्कर
तेरे पाँव के तले भी होगा

जाने किस जल्दी में थी
जन्म दिया, दौड़ गयी
क्या खुदा देख लिया था
कि मुझे छोड़ गयी

मेल के देखता हूं
मिल ही जाए तुझसी कहीं
तेरे बिन ओपरी लगती है
मुझे सारी जमीं

तुझे पहचानूंगा कैसे?
तुझे देखा ही नहीं

रविवार, मई 23, 2010

एक और मंज़र - ट्रैफिक सिग्नल का

होंठ हिलते हैं भिखारी के, सुनाई नहीं देता
हाथ के लफ़ज़ उछलते हैं, वो कुछ बोल रहा है,
थपथपाता है हर इक कार का शीशा आकर
और उजलत में है
ट्रैफ़िक के सिग्नल पे नज़र है!

चेंज है तो सही
कौन इस गर्मी में अब कार का शीशा खोले,
अगले सिगनल पे ही सही
रोज़ कुछ देना ज़रूरी है, ख़ुदा राज़ी रहे!

[नया ज्ञानोदय [अप्रैल २०१०] से साभार]

एक मंज़र गर्मी का

कभी कभी लैम्प पोस्ट के नीचे कोई लड़का
दबा के पैन्सिल को उंगलियों में
मुड़े-तुड़े काग़ज़ों को घुटनों पे रख के
लिखता हुआ नज़र आता है कहीं तो..
ख़याल होता है, गोर्की है!
पजामे उचके ये लड़के जिनके घरों में बिजली नहीं लगी है
जो म्यूनिसपैल्टी के पार्क में बैठ कर पढ़ा करते हैं किताबें
डिकेन्स के और हार्डी के नॉवेल से गिर पड़े हैं...
या प्रेमचन्द की कहानियों का वर्क है कोई, चिपक गया है
समय पलटता नहीं वहां से
कहानी आगे बढ़ती नहीं है... और कहानी रुकी हुई है।

ये गर्मियाँ कितनी फीकी होती हैं - बेस्वादी।
हथेली पे लेके दिन की फक्की
मैं फाँक लेता हूं...और निगलता हूं रात के ठन्डे घूंट पीकर
ये सूखा सत्तू हलक से नीचे नहीं उतरता

ये खुश्क़ दिन एक गर्मियों का
जस भरी रात गर्मियों की

- गुलज़ार

[नया ज्ञानोदय [अप्रैल २०१०] से साभार]

मंगलवार, फ़रवरी 02, 2010

इब्नबतूता का भूत [The ghost of Ibn-Batuta]

सुबह सुबह अखबार ने जब दरवाजे पर दस्तक दी तो मालूम हुआ कि इब्नबतूता के भूत साथ में तशरीफ़ लाए हैं। आने का सबब पूछा तो पता चला कि कुछ चिलप्पों करने वाले तथाकथित साहित्यकारों ने शोर मचा कर उन्हें नींद से उठा दिया है। शोर ये कि गुलज़ार साब ने इब्नबतूता का जूता चुरा लिया है।




गुलज़ार ने चुराया इब्नबतूता पहन के जूता

भूत जनाब बहुत परेशान लग रहे थे। वैसे भी अपने समय में पैदल इतना सारा जहाँ घूमे थे कि सदियों तक उसकी थकान खत्म ना हो। अच्छे खासे इतिहास के पन्नों में आराम फ़रमा रहे थे, नींद से उठा कर अखबार की सुर्खियों में यूं अलसुबह खड़ा कर देने के फ़रमान से तकलीफ़ किसको नहीं होगी। और उस पर ये भी कि ना सर्वेश्वर दयाल सक्सेना के इब्नबतूता से उनका कोई वास्ता है और ना ही गुलज़ार के। बोले कि ये बिलावजह हंगामा क्युं है बरपा?

हमने कहा जनाब, ये जूते का दौर है, हर तरफ़ जूते का जोर है, चाहे इराक़ हो या भारत, नेता हो या अभिनेता, राजनीति हो या साहित्य का अखाड़ा, विरोध का इन दिनो सबसे बड़ा औज़ार बन गया है जूता। अब यहाँ के साहित्यकारों के हाथ में आपका जूता पड़ गया है, तो उछालने की होड़ लगी हुई है। कुछ तथाकथित साहित्यकार जो अपनी रचनाओं से अपने लिये जगह नहीं बना सके, आपके जूते के विवाद को उछाल के अखबारों की सुर्खियों में जगह बनाने की कोशिश में जुटे हैं। उनको परेशानी इस बात से हो रही है कि गुलज़ार साब ने सर्वेश्वर जी की कविता से आपका नाम और जूता चुरा लिया है।

"मगर मेरे नाम का कॉपीराईट क्या सर्वेश्वर जी के पास है? क्या मेरी पहचान सिर्फ़ उनकी कविता से है, क्या लोग ये भूल गये कि मेरे कई यात्रा वृतांत दुनिया की कई भाषाओं में छप चुके हैं?" भूत जनाब का प्रश्न था।

"शायद भूल ही गये हैं" मैनें बोला तो नहीं वरना जनाब को बड़ी निराशा होती, बस मन ही मन सोचा । फिर सोचा कि शोर बरपाने वालों को इब्नबतूता से क्या लेना देना, उनका लेना देना तो सर्वेश्वर जी से भी नहीं है। हमेशा किसी ना किसी बात पे परेशान रहते हैं ये लोग। अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के नाम पर किसी पर भी पत्थर (या जूता) उछालने की शायद आदत सी हो गयी है इक जमात को। गुलज़ार साब से कुछ खास शिकायतें रहती हैं, हिन्दी साहित्यकारों का एक तबका कहता है उर्दू के शायर हैं, उर्दू वाले कहते हैं आज़ाद हिन्दोस्तानी में लिखते हैं। शायर-साहित्यकार ये भी कहते हैं फ़िल्मों के गीतकार हैं। उनकी आर्ट की आज़ादपरस्ती, ऐसे शोर दबाने की बहुत कोशिश करते रहते हैं

"वैसे इस बार इन लोगों को असल में किस बात से परेशानी है"? भूत जनाब का अगला प्रश्न था

जनाब, इनका तर्क ये है कि सर्वेश्वर जी बच्चों के लिये कविता लिखी, गुलज़ार साब ने उस कविता को चुरा कर फ़िल्मी गीत का रूप दे दिया है। कुछ साहित्यकार लोगों को इसलिए परेशानी है कि आपका नाम साहित्य से उठा कर फ़िल्मी गीत में ले लिया है और कुछ साहित्यकारों को ये कि गुलज़ार साब ने बिना श्रेय दिये सर्वेश्वर जी की कविता में से आपका नाम और जूता कॉपी किया है। अब सर्वेश्वर जी की कविता या गुलज़ार साब के गीत दोनों में आप की उपस्थिति सिर्फ़ इसलिए है कि आपका नाम जूता के साथ अच्छा ’राइम’ होता है, आपके नाम के ’साउंड’ मॆं बहुत दम है, जो एक कविता या गीत में प्रभाव के लिये बहुत ज़रूरी है। जहाँ तक संदर्भ की बात है दोनों ने आपका और आपके जूते का उपयोग बिलकुल अलग तरीके से किया है। सर्वेश्वर जी की कविता जहां बच्चों के लिये मज़ेदार ’नॉनसेन्सिकल’ फ़ारमेट मे लिखी गई है वहीं गुलज़ार साब ने इसका उपयोग फ़िल्म की स्क्रिप्ट और सिचुएशन के आधार पे किया है। फ़िल्म की शुरुआत में जहां दो चोर, अपने बॉस के पिंजरे से फ़ुर्र हो रहे है, आज़ाद हो रहे हैं... इधर से उधर घुमक्कड़ों की तरह भाग रहे हैं, दबे पाँव निकल रहे हैं, उन्होने जूता पहना नहीं है, बल्कि बगल मे दबाया है क्युंकि पहनने के बाद जूता आवाज़ करेगा और उनका फ़ुर्र होना, भागना आसान नहीं होगा। वैसे मैं क्या फ़ैसला करूं, जनाब आप खुद ही दोनों (कविता और गीत) एकसाथ पढ़ लें और कि क्या ये वाकई में कॉपी है?










सर्वेश्वर दयाल सक्सेना

गुलज़ार

इब्नबतूता
पहन के जूता
निकल पड़े तूफान में
थोड़ी हवा नाक में घुस गई
थोड़ी घुस गई कान में
कभी नाक को
कभी कान को
मलते इब्नबतूता
इसी बीच में निकल पड़ा
उनके पैरों का जूता
उड़ते उड़ते उनका जूता
पहुंच गया जापान में
इब्नबतूता खड़े रह गये
मोची की दूकान में

इब्‍ने बतूता,
बगल में जूता
पहने तो करता है चुर्रर
उड उड आवे, दाना चुगेवे
उड जावे चिडिया फुर्रर

अगले मोड पे, मौत खड़ी है
अरे मरने की भी क्‍या जल्‍दी है
होर्न बजाके, आ बगियन में
हो दुर्घटना से देर भली है
चल उड जा उड जा फुर फुर

दोनों तरफ से बजती है ये
आय हाय जिंदगी क्‍या ढोलक है
हॉर्न बजाके आ आ बगियन में
अरे थोड़ा आगे गतिरोधक है

इब्‍ने बतूता..


"क्या कहते हैं जनाब"?

"पहली बात तो दोनो रचनाओं के उपयोग और संदर्भ में कोई समानता मुझे तो नज़र नहीं आई । और अगर लोगों को ये आपति है कि गुलज़ार साब ने गीत के साथ सर्वेश्वर जी की कविता का ज़िक्र नहीं किया, तो वे ये नहीं कहते कि सर्वेश्वर जी ने कविता में मेरा नाम मेरे किस किस्से या किताब से पढ़ कर दिया है। उनके जेहन में मेरा नाम भी तो मेरा ही कोई किस्सा पढ़ कर आया होगा" जनाब का जवाब था। "बेवजह का मसला खड़ा किया है कुछ लोगों ने और मेरी नींद भी खराब कर दी। है अब मैं भी चिड़िया की तरह फ़ुर्र होता हूं" कह कर जनाब गायब हो गये।

मैं सोच रहा था कि गुलज़ार साब पहले भी कई बार इस तरह के आरोपों के दौर से गुजरे हैं, और खासकर तब भी जब वो अपनी तरफ़ से चला कर घोषित करते रहे हैं कि मिसरा ग़ालिब का है और कैफ़ियत अपनी अपनी, या बुल्लेशाह और अमीर खुसरो की प्रेरणा को कभी नहीं नकारा बल्कि आगे बढ़ कर पहले लोगों को बताया। जबकि फ़िल्म उद्योग में अनेकोनेक, अनगिनत ऐसे उदाहरण रोज़ ही मिलते हैं जहां फ़िल्म, कहानी, गीत, दृश्य, स्क्रिप्ट, नृत्य आदि हूबहू उठा लिये जाते हैं मगर राष्ट्रीय दैनिकों में मुख्य-पृष्ठ पे चोरी के रूप मे उछाले नहीं जाते। आज की खबर निश्चित रूप से स्वार्थी तत्वों द्वारा इक निश्चित एजेंडा के तहत उछाला गया जूता है।

शायद ऐसे ही वाकयों और लोगों के लिये गुलज़ार साब ने एक बार लिखा था

कहने वालों का कुछ नहीं जाता
सहने वाले कमाल करते हैं
कौन ढूंढे जवाब ज़ख्मों के
लोग तो बस सवाल करते हैं!


[नोट : सर्वेश्वर जी की कविता बचपन में पराग में पढ़ी और स्कूल में गुनी-सुनी-सुनाई है। मेरे लिए सर्वेश्वर जी बहुत आदरणीय व्यक्तित्व और साहित्य के अविस्मरणीय हस्ताक्षर रहे हैं। मगर उन लोगों से तकलीफ़ हो रही है जो उनके नाम से इस तरह से जूते उछाल रहे हैं। इसिलिए ये एक रिएक्शन है आज की खबर पर]

- पवन झा

मंगलवार, जनवरी 26, 2010

RoobaRoo 2010 : Gulzarfans Meet Report

स्माल इज़ ब्यूटीफुल
-डॉ. डी.पी. अग्रवाल


बावजूद इस बात के कि मुझे हिंदी समाचार पत्रों में बढ़ते जा रहे अंग्रेजी के प्रयोग से चिढ़ होती है, मैं यहाँ अपनी इस टिप्पणी के लिए अंग्रेजी वाक्यांश का प्रयोग कर रहा हूं। असल में यह वाक्यांश ब्रिटिश अर्थशास्त्री ई.एफ़. शूमाखर की प्रख्यात किताब का शीर्षक है। मुझे लगा कि जो बात मैं कहना चाह रहा हूं, वस इस शीर्षक से ही सबसे बेहतर तरीके से अभिव्यक्त हो रही है, इसलिए न चाहते हुए भी इस शीर्षक का प्रयोग कर लिया है।

जयपुर में इन दिनों पाँचवां जयपुर लिटरेचर फ़ेस्टिवल चल रहा है, जिसे आयोजकों ने दुनिया का सबसे बड़ा साहित्योत्सव कहा है। यहां सब कुछ बड़ा है, चकाचौंध कर देने वाला, चमत्कृत कर देने वाला। इस साहित्योत्सव पे बहुत कुछ लिखा कहा जा रहा है, और यह स्वाभाविक भी है।

लेकिन इसी के साथ इसी जयपुर में आज सुबह एक छोटा सा आयोजन हुआ, जिसकी कहीं किसी किस्म की कोई चर्चा नहीं हुई। होनी भी नहीं थी। आयोजक चाहते ही नहीं थे। संयोग से मुझे इस आयोजन में उपस्थित रहने का अवसर मिला और मुझे लगा कि श्रेष्ठता, उत्कृष्टता और सार्थकता के लिए बड़ा होना कतई ज़रूरी नहीं है। अगर सही दृष्टि हो तो बहुत छोटा होकर भी सार्थक हुआ जा सकता है और इसीलिए ये शीर्षक...

असल में एक बहुत निजी किस्म का संगठन है, ’गुलज़ार फ़ैन्स क्लब’, जैसा कि नाम से ही जाहिर है यह, शायर गुलज़ार के प्रशंसकों का एक समूह है। इस क्लब ने जयपुर में गुलज़ार साहब के आगमन का लाभ उठाते हुए आज सुब एक अनौपचारिक गोष्ठी का आयोजन लिया और मुझे भी उसमें उपस्थित रहने का अवसर एक मित्र के सौजन्य से मिल गया। वहां जाकर मुझे आश्चर्य हुआ कि पूरे देश के अलग अलग हिस्सों से कोई पचासेक गुलज़ार प्रेमी सिर्फ़ इस गोष्ठी के लिए जयपुर आए थे। कोई मुंबई से, कोई पुणे से, कोई अहमदाबाद से, कोई दिल्ली से, और ना जाने कहां कहां से, सिर्फ़ इस मक़सद के साथ कि कुछ वक्त गुलज़ार साहब के सानिध्य में बिताया जाए, इनके अलावा बहुत थोड़े से हम स्थानीय लोग और थे, कुछ संगीत प्रेमी, कुछ और।

गुलज़ार साहब ने इस गोष्ठी के लिए ये सुझाया था कि बजाय इसके कि सिर्फ़ वे ही बोलें, क्यॊं ना कुछ युवा अपनी-अपनी रचनाओं का पाठ करें! और यही हुआ भी, कोई पन्द्रह युवाओं ने अपनी लिखी कविताएं पढ़ीं खास बात यह कि इनमें से अधिकांश तकनीक से जुड़े और अपनी अपनी ज़िन्दगियों में सुस्थापित युवा थे। यानि ये आम हिंदी कवि से भिन्न लगे थे और इसलिए इनकी कविताओं का मुहावरा भी आम हिंदी कविता से भिन्न था।
जिन लोगों ने वहां अपनी कविताएं पढ़ीं उनमें मेरा जाना-पहचान सिर्फ़ एक नाम था - जयपुर के युवा कवि प्रभात का, शेष सब कविता की दुनिया के नवजात थे, लेकिन उनकी रचनाएं सुनते हुए सबसे प्रीतिकर प्रतीति तब हुई कि साहित्य और विशेषकर कविता के प्रति रुझान और अनुराग अभी भी शेष है, इस प्रतीति का महत्व इस बात से और बढ़ जाता है कि हम लोग अक्सर इस बात का शोक मनाया करते हैं कि हिंदी में रचनाकारों की नई पीढ़ी विरल होती जा रही है। यानि लोग कविताएं पढ़ भी रहे हैं, लिख भी रहे हैं। मेरे खयाल से इस बात से कोई फ़र्क नहीं पढ़ना चाहिये कि इन कवियों में से कुछेक पर गुलज़ार शैली की छाप काफ़ी गहरी थी। जैसे जैसे ये लोग और अधिक लिखेंगें पढ़ेंगे, इनकी अपनी शैली विकसित होगी, कलाओं की दुनिया में शुरु शुरु में अपने आदर्श का अनुकरण आम बात है।

इन कवियों के काव्य-पाठ के बाद हामरे शह्र के कुछ जाने पहचाने शायरों फ़ारूक इंजीनियर, आदिल मंसूरी और शीन काफ़ निज़ाम ने भी कुछ रचनाएं पढ़ीं, और फिर गुलज़ार ने अपनी कुछ बहुत गंभीर कविताएं सुनाईं।

और इसके बाद चला चर्चाओं का दौर, उप्सथित युवाओं ने कुछेक सवाल फ़िल्मों मे कविता की स्थिति, समय के साथ कविता में आ रहे परिवर्तनों, हिंदी और उर्दू के अंतरसंबंधो आदि पर किए, जिनके उत्तर गुलज़ार ने बहुत ही सुलझे हुए अंदाज़ में दिए, उनला कहना था कि अगर कविता समय के साथ नहीं बदलेगी, अगर उसकी भाष और बिंब विधान में कोई बदलाव नहीं हुआ तो वह जड़ हो जाएगी। लिपि के मुद्दे पर उनका स्पष्ट मत था कि इस बात से कोई अंतर नहीं पड़ता कि किसी भाषा को किसी दूसरी लिपि में लिखा या पढ़ा जाए। देवनागरी में भी ग़ालिब, ग़ालिब ही रहेंगे।

सभी उपस्थित लोग ये चाहते थे कि गुलज़ार उनके बीच में रहें, उनसे और बतियाया जाए, उनसे और रचनाएं सुनी जाएं’ लेकिन उन्हें दोपहर की फ़्लाइट पकड़नी थी, इसलिए अतृप्ति सभी के मन में बनी रही। मुझे ये छोटा सा अनौपचारिक आयोजन ब्यूटीफुल इस कारण से लगा कि एक तो इससे मेरा ये भ्रम टूटा कि हमारे समाज में साहित्य का स्थान कम होता जा रहा है और विशेषरूप से तकनीकवालों का तो साहित्य से कोई लेना देना ही नहीं, दूसरी बात यह कि कोई कार्यक्रम छोटा होकर भी बहुत सार्थक हो सकता है, बशर्ते आयोजकों के पास सही दृष्टि हो, उनकी नीयत में खोट ना हो और साहित्यकार भी अपनी ओढ़ी हुई गम्भीरता को उतार फेंकने को तैयार हो। हम अपने साहित्यकारों को जिस भंगिमा में देखने के आदी हैं, वह उनके प्रति सम्मान कम और वितृष्णा ज्यादा होती है। उसके विपरीत गुलज़ार यहां अपने सही और मानवीय रूप में थे। ठीक उसी तरह जैसे हमारे घर का कोई बड़ा होता है। इसलिए उनसे सही संवाद स्थापित हो सका और इसीलिए मैनें एक छोटे से अप्रचारित कार्यक्रम पर अपनी टिपाणी के लिए अर्थशास्त्री शूमाखर से उनकी किताब का शीर्षक उधार लिया।

साभार : मार्निंग न्यूज़ (24.01.10)







Gulzar saab at Jaipur Literature Festival 2010 Day 2

Gulzar saab at Jaipur Literature Festival 2010 : Moments from Day 2, Jan 22, 2010

Gulzar saab at Jaipur Literature Festival 2010

Gulzar saab at Jaipur Literature Festival 2010 : Moments from Day 1 (21.01.10)