मंगलवार, सितंबर 28, 2010

Do Masoom Khuda : दो मासूम खुदा

शिमला के सफ़र का एक मंज़र :

सर्दी थी और कोहरा था
और सुबह की बस आधी आँख खुली थी,
आधी नींद में थी!

शिमला से जब नीचे आते
एक पहाड़ी के कोने में
बस्ते जितनी बस्ती थी इक
बटवे जितना मंदिर था
साथ लगी मस्जिद, वो भी लॉकिट जितनी

नींद भरी दो बाहों
जैसे मस्जिद के मीनार गले में मन्दिर के,
दो मासूम खुदा सोए थे!
एक बूढ़े झरने के नीचे!!


Shimla Ke Safar ka Ek Manzar:

sardI thI aur koharaa thaa
aur subah kI bas aadhI aa.nkh khulI thI,
aadhI neend me.n thI!

shimla se jab nIche aate
ek pahaaDI ke kone me.n
baste jitanI bastI thI ik
baTave jitanaa mandir tha
saath lagI masjid, vo bhI locket jitanI
neend bharI do baaho.n jaise masjid ke mInaar gale me.n mandir ke,
do maasoom khudaa soye the!
ek booDhe jharne ke neeche

[Published in 15-5-75, a new poetry collection on Vani Prakashan, Delhi]

6 टिप्‍पणियां:

anshumala ने कहा…

guljar ji ki es najm ke lie dhanyavad

Bheem ने कहा…

toooo good

ooparwale ki banayee duniya mein uskee jagah ....

वंदना shaantuindu ने कहा…

गुलजार साब की यह नज़्म पढ़कर और आज के माहोलमें मुजे मेरी कविता की दो लाइन याद आती है -"अयोध्यामें बनादो मस्जिद और मक्कामें बनादो मंदिर ,मिटादो इंसानों के बिच की यह लकीर |

Sonal ने कहा…

bahut badiya... shukriya padwaane ke liye...

Mere blog par bhi sawaagat hai aapka.....

http://asilentsilence.blogspot.com/

http://bannedarea.blogspot.com/

Music Sunne or Download karne ke liye Visit karein...
Download Direct Hindi Music Songs And Ghazals

Sourav Roy ने कहा…

जान कर सच में ख़ुशी हुई कि आप हिंदी भाषा के उद्धार के लिए तत्पर हैं | आप को मेरी ढेरों शुभकामनाएं | मैं ख़ुद भी थोड़ी बहुत कविताएँ लिख लेता हूँ | हाल ही में अपनी किताब भी प्रकाशित की | आप मेरी कविताएँ यहाँ पर पढ़ सकते हैं- http://souravroy.com/poems/

neel..ashq ने कहा…

sir i m a big fan of urs...my blog is neelsrivastava.blogspot.com.....hope u like it...thanks