गुरुवार, अगस्त 19, 2010

माँ (mother)

गुलज़ार साब के जन्मदिन पर प्रस्तुत है उनकी एक अनूठी पर्सनल नज़्म जो उन्होनें अपनी माँ को समर्पित की है!

तुझे पहचानूंगा कैसे?
तुझे देखा ही नहीं

ढूँढा करता हूं तुम्हें
अपने चेहरे में ही कहीं

लोग कहते हैं
मेरी आँखें मेरी माँ सी हैं

यूं तो लबरेज़ हैं पानी से
मगर प्यासी हैं

कान में छेद है
पैदायशी आया होगा
तूने मन्नत के लिये
कान छिदाया होगा

सामने दाँतों का वक़्फा है
तेरे भी होगा
एक चक्कर
तेरे पाँव के तले भी होगा

जाने किस जल्दी में थी
जन्म दिया, दौड़ गयी
क्या खुदा देख लिया था
कि मुझे छोड़ गयी

मेल के देखता हूं
मिल ही जाए तुझसी कहीं
तेरे बिन ओपरी लगती है
मुझे सारी जमीं

तुझे पहचानूंगा कैसे?
तुझे देखा ही नहीं

18 टिप्‍पणियां:

Shruti Mehendale ने कहा…

aakhe nam ho gai padte padte...mujhe bhi meri maa yaad aa gai ....vaise to maa ko koi bhulta nahi ...chahe is jaha mein ho ya n ho...bas sailab sa bah rah hai meri aakhi se jaise koi baandh toot gaya ho...

Shruti...

anshumala ने कहा…

गुलजार साहब को मेरी तरफ से जन्मदिन कि ढेर सारी शुभकामनाएँ नज्म कि क्या तारीफ करूँ उनकी हर नज्म सीधे दिल दे निकलती है और दिल तक जाती है | एक सवाल है उन्होंने फ़िल्मे बनानी क्यों बंद कर दी है |

s g ने कहा…

MAA WOH lafz hai jo khda se pehle liya jaata hai.isee ek lafz se to insaan pehchaan paata hai.

Dankiya ने कहा…

wah kya baat hai....chooo liya..

sameer ने कहा…

Gulzar saab, aapki har ek nazm meri aankho se nikalte hain, aansu ban ke...aap jaisa koi nahi...mujhe meri maa yaad aa gayi...yun to kabhi bhula nahi unko,aaj unki ahmiyat yaad aa gayi...

मुसाफ़िर ने कहा…

गुलज़ार साब, आप ने जिस तरीके से ’माँ’ को याद किया है, नायाब है। और जिस तरह के जज़्बात आपने इस नज़्म में डाले हैं, वो इसे नज़्म की जमात से कहीं ऊपर ले जा कर खड़ा कर रहे हैं। असल जज़्बात को यूँ तो अल्फ़ाज़ में ढाला नहीं जा सकता मगर आप को शायद उसी माँ की दुआ मिली होगी, जो आप इतनी सहजता से जज़्बात अल्फ़ाज़ में इस तरीके से डालते हैं कि उस के अलावा कुछ भी सच्चा नहीं लगता है फिर। नम आँखों के साथ....मोहित...

बेनामी ने कहा…

Apke "opari"shabd per fida hun!!!!Kuch aur ho hi nahi sakta!!!Vaise aap shabdo ke Jadugar hai!!!Khuda apke kalam ko banaye rakhe!!!!

Deepali Sangwan ने कहा…

salute to you chacha jaan

om raj pandey"omi" ने कहा…

aap jiye hazaaron saal .........
nazm ki taarif karta hun ..
bahut khoob .....

Amateur Expert ने कहा…

Now this is Gulzar(along with its fragrance..........how well........he describes the irony.....through the zikr of a lost mother.......sondhi mitti ki khushboo aati hai unki nazmon se Wamiq

ehsaas-e-ehsaas ने कहा…

Pata nahin aisa kya hai Gulzar ji mein ki yun lagta ki ye baat is-se zyada khoobsoorti se kahi hi nahin ja sakti thi! Allah kare jore kalam aur zyada...

vandana ने कहा…

शायद हमारी माए भी सहेली है जन्नत में कहीं
कि अपनी मा की तस्वीर में कहानी सी सुनती हूँ..
एक और मा की जो ढूँढ रही है अपने ''बेटे'' को....!

swati ने कहा…

dear gulzaar saab
i am a college going MBA grad,n whenever i am distressed or my lifes turbulent i listen to you..."kitna bada haath tha tumhara"....."neeche behta dariya keh raha tha mujhe apne aagosh mai le lo,mai tumhari badnammi k sare daag chuppa dunga"....."achanak se gulzar keh kar bula liya tumne mujhe naam se pukaro ye naam bhi to accha hai".....whenevr i listen you speaking my heart of heart becomes happy,i am transecended to some other world such is your power gulzar sahab....hum sukun magne jate hai bhagwan k paas..aapke shabdo mai bahut sukun hai...i forget the world when i listen to you.such is ur magic!!!

बुध अगस्त 17, 02:26:00 पूर्वाह्न IST
हटाएं

parshant chandra ने कहा…

Gulzar saab aap ko janm din ki dhero shubh kamnayen.....
saab ankhe nam ho gai....maa se behtar kuchh nahi hai duniya me.

shrilal rathi ने कहा…

sir great fan of yours, happy belated b'day....great nazm as always...

shrilal rathi ने कहा…

sir great fan of yours, happy belated b'day....great nazm as always...

Sunil Gupta 'Shwet' ने कहा…

Heart touching...
Aapke anginat chahne walo me se ek mai...

Yudhisthar raj ने कहा…

बेहतरीन नज़्म ... माँ तो माँ होती है!!