बुधवार, जनवरी 21, 2009

जयपुर हुआ गुलज़ार

गुलज़ार साब इन दिनों जयपुर में हैं. अपनी जयपुर यात्रा के पहले दिन आज सुबह आबशार संस्था द्वारा आयोजित पोएट्री वर्कशाप में शिरकत की और नये नौजवान शायरों के कलाम सुने. शाम को अपनी नज़्मों की बौछार से जयपुर के काव्य रसिकों को सराबोर कर दिया.. कल जयपुर लिटरेचर फ़ेस्टिवल में गुलज़ार साब, श्री पवन वर्मा के साथ नज़्मों की जुगलबंदी पेश करेंगे और २२ तारीख को उनकी नयी किताब "यार जुलाहे" क विमोचन है. इन सभी ही कार्यक्रमॊ के बारे में विस्तार से समय मिलते ही लिखुंगा.. फ़िलहाल आज के कार्यक्रमों की कुछ तस्वीरें पेश हैं


8 टिप्‍पणियां:

आशीष ने कहा…

गुलजार साहेब को सुनने जयपुर आने वाला था लेकिन नौकरी में उलझा हुआ। गुलजार साहेब और गुलाबी नगर को सलाम

Rahul ने कहा…

ek bahut achcha avsar tha,unhe sunne ka,unse roo-ba-roo dekhne ka,aur wo bhi meri nagri mein.
ufff.. ye rozgaar ke silsile.....

thanks,Pawan ji fr these photos.

कुश ने कहा…

इस कार्यकर्म में जा नही पाया.. बहुत अफ़सोस है.. पर आपने यहा तस्वीरे देकर बहुत बढ़िया काम किया..

धन्यवाद...

Udan Tashtari ने कहा…

अच्छी तस्वीरें.

सुशील कुमार छौक्कर ने कहा…

अच्छी फोटो। आगे भी ....।

डॉ .अनुराग ने कहा…

पियूष का फोन तो आया था पर हमारा भी यही हाल हुआ ....वोर्किंग डे में काहे को ऐसा सब करते हो भाई......वैसे अच्छा लगा देख कर

asim ने कहा…

तसवीरें देखकर बहुत खुशी हुई.. साथ ही यह गम भी सालता रहेगा की इस जलसे में शामिल होने से वंचित रह गया ... काश इसी तरह गुलज़ार साहब का पुणे में भी आगमन हो.

Sili Nazme ने कहा…

kaash mera presentation na hota to main bhi wahi hota...but its so nice when i see these snaps..thanx .and sorry Piyush bhai also..
ANil Jeengar