गुरुवार, जनवरी 01, 2009

जय हो! (Jai ho from Slumdog Millionaire)

जय हो!

जीत का जश्न है जय हो! (spoilers ahead... skip the para if you haven't seen the film)

झोपड़-पट्टी में पला-बढ़ा अनाथ जमाल सवाल दर सवाल फ़तेह हासिल कर के अपनी मंजिल की ओर बढ़ रहा है. इस गेम शो में ज़िंदगी की किताब हर सवाल का जवाब हल करने में मदद कर रही है. बस एक सीढ़ी और बाकी है गेम शो को जीतने में, सिर्फ़ एक सवाल जो उसे दो करोड़ रु की ईनामी राशि का हक़दार बना देगा. मगर जमाल की आँखें कुछ और तलाश कर रही हैं. उसकी मंजिल कहीं और है, उसकी जीत का मक़सद कुछ और है... दो-ढाई करोड़ नहीं पर ढाई अक्षर प्रेम के.. जमाल की जीत होती है और ये गीत उसी जीत का हुंकारा है, जश्न की जयकार है.. रहमान की धुन इतनी जादुई है कि फ़िल्म खत्म होने के बाद भी दर्शक फ़िल्म से बंधे रहते हैं... गुलज़ार साब के शब्दों में फ़िल्म की थीम बहुत खूबसूरती से उभर के आती है. जमाल की जीत के मक़सद को, और जीत के जश्न को इस गीत से बेहतर अन्त शायद नहीं मिलता.


आजा आजा जिन्दे, शामियाने के तले आजा
ज़री वाले नीले आसमान के तले जय हो!
जय हो!


रत्ती रत्ती सच्ची मैने जान गंवाई है
नच नच कोयलों पे रात बिताई है

अँखियों की नींद मैने फूंकों से उड़ा दी
गिन गिन तारे मैने उँगली जलाई है

आजा आजा ..... जय हो!



चख ले, चख ले
ये रात शहद है, चख ले
रख ले, हाँ दिल है
दिल आखरी हद है, रख ले

फ़िल्म की थीम इन शब्दों में उभर के आती है... दिल से बड़ी कोई जीत नहीं, कोई ईनाम नहीं, कोई हद नहीं, कोई सौगात नहीं...


काला काला काजल तेरा
कोई काला जादू है ना

आजा आजा ..... जय हो!

कब से हाँ कब से
जो लब पे रुकी है.. कह दे
कह दे, हाँ कह दे
अब आँख झुकी है, कह दे
ऐसी ऐसी रोशन आँखें
रोशन दो दो हीरे हैं क्या?

आजा आजा ..... जय हो!


संजाय शेखर जो इन दिनों गुलज़ार साब के गीतों के अंग्रेजी अनुवाद पर काम कर रहे हैं, ने इस गीत का अंग्रेजी में खूबसूरत अनुवाद किया है.

come, come O Beloved
come step with me under this canopy
this azure canopy of a sky
filigreed with golden sunlight

come, I will tell you how
those dreary long nights—
without you—passed
each night— an ordeal
each night— a walk
on a bed of burning coals
look at the tips of my fingers:
singed, scorched from counting
the stars, but still
sleep was not to soothe my eyes
I had already blown it all away
believe you me—
those nights, I saw
life drain out of me
drop by drop

but tonight—
when you are with me—
this night is a pot of honey
come let's savour it
and keep this heart of mine
with you, for the heart is
the last frontier

look! I am under your spell
that black kohl in your eyes
has whipped up
a kind of black magic

come, say out those words
that you have always
catapulted back from your lips
look at you—
blushing, lowering your eyes
it is now or never
come, say it

but let's pause—
this night is fleet-footed
let's take a breather

let's prolong this night
but your eyes
with their brilliance of diamonds
has already lit up the night sky
filigreed it with the gold of the sun
come, come O Beloved
come become my life
come!




ताज़ा अपडेट (12.01.09) : ए. आर. रहमान फ़िल्म के संगीत के लिये प्रतिष्ठित गोल्डन ग्लोब अवार्ड से नवाज़े गये हैं. समारोह के दौरान जब भी स्लमडॉग मिलिनियर का नाम पुकारा गया हर ओर जय हो! का हुंकारा गूंजा... भारतीय फ़िल्म संगीत के लिये ये पुरस्कार एक बड़ी उपलब्धि है. ए. आर रहमान और गुलज़ार साब को बहुत बहुत बधाई!


ताज़ा अपडेट (22.01.09) : गुलज़ार साब और ए. आर. रहमान को जय हो! के लिये इस वर्ष के आस्कर पुरुस्कारों में सर्वश्रेषठ गीत के लिये नामांकित हुआ है. समारोह के दौरान रहमान इस गीत को लाईव प्रस्तुत भी करेंगे. ए. आर रहमान और गुलज़ार साब को बहुत बहुत बधाई!

3 टिप्‍पणियां:

shiv ने कहा…

ARR और गुलजार जी को बहुत बहुत बधाई।

गीत बहुत खूब लिखा है! और आनंदित करता है । रहमान का संगीत भी जबरदस्त।

seema ने कहा…

wow it was a grt pleasure watching this film..and its all becaz of gulzarjee and rehman ..wallaah kya jadu bhekhera hai inn dono ne ...god bless them..:)

satya ने कहा…

Thanks for sharing this fantastic song

Playing in the loop for last 15 days.

Jai ho